कोशिश!

मेरी कोशिश अब धीरे-धीरे बढ़ रही है,

ज़्यादा नई थोड़ा सा संभल रही है,


कभी डर कर रेहने वाली,

आज अपने कदमों पर चल रही है,

गिर-गिर कर चोटे तो बहूत खाई,

पर कोशिश कभी ना मायूस हो पाई है,

गिर कर उठना, उठ कर चलना आदत बना रही हूँ,

कोशिश करना ही अब अंदाज़ बना रही हूँ,


मेरी कोशिश अब धीरे-धीरे बढ़ रही है,

ज़्यादा नई थोड़ा सा अब संभल रही है।


~Niyati Jain ( Instagram : @gunjaish_1407 )

98 views

©2019 by Not Yet.