ज़िन्दगी

मैंने मिट्टी के ढ़ैर चलते देखें हैं ,

ज़िन्दगी की छत के नीचे सपने दबते देखें हैं !

0 views

©2019 by Not Yet.