Saawan !

Updated: Jul 8

बारिश की छम छम सुनकर तू आए,

ये दिल चाहता है !

सावन जो आया अब मुझे ,

मेरा सनम याद आता है ,

बारिश की दिलकश बूंदे और अंदेखी हवाएं ,

हाय ये मौसम ए इश्क़ !

बिन तेरे सब तूफान सा उलझ जाता है ।

बादल बरसे , तेरे दीदार को हम तरसे ,

इस बरस जो तू आए ,

हमेशा के लिए रेहजाए ,

ये दिल चाहता है !

सिर्फ तुझको ये दिल चाहता है !

@suvaibazaheen

©2019 by Not Yet.