Shayari#01



दो नज़्म एक नग़मे की ज़ात,

मुझ ख़ाम को एक गुलबदन का साथ।

फ़ुरसत के फ़िरदौस के भी बख़्त में नहीं जो,

मेरे महबूब के अत्र में वो बीती रात। 

0 views

©2019 by Not Yet.