Shayari#03

कल तो दर्द ने भी कहे दिया इतना तहम्मुल कहा से लाते हो,

हज़ार ज़ख्मो से भरा सीना लिये बेबाक मुस्कुराते हो , जानते हो सब दर्द-ओ-तकलीफ़ का सबब है वो बेवफ़ा , फिर भी बड़ी शान-ओ-शौकत से उसे ही दिल मे बसाते हो  ~ Deepak Savlani

15 views

©2019 by Not Yet.